सीधे मुख्य कॉन्टेंट पर जाएं
डैशबोर्ड पर जाएं
क्या आपको जानकारी नहीं है कि कहां से शुरू करना है? अपने हिसाब से सुझाव पाने के लिए, छोटे से क्विज़ में हिस्सा लें.
5 में से 3 लेसन
वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी की मदद से, साइट पर आने वाले लोगों की दिलचस्पी बनाए रखना
5 मिनट इन लेसन को पूरा करना बाकी है

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी की मदद से, साइट पर आने वाले लोगों की दिलचस्पी बनाए रखना

webdev

अपनी समाचार वेबसाइट पर लोगों को अच्छा उपयोगकर्ता अनुभव देना

webdev

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी क्या होती है?

GNI_Data_Presentation (1)

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की जानकारी, Google से मिलने वाली एक तरह की रिपोर्ट है. इसमें वेब पर शानदार उपयोगकर्ता अनुभव देने के लिए ज़रूरी सभी दिशा-निर्देश उपलब्ध होते हैं.

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी, वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की जानकारी की तीन मेट्रिक हैं. रिसर्च से पता चला है कि जब किसी वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की जानकारी देने वाली सभी अहम मेट्रिक, थ्रेशोल्ड के बराबर होती हैं, तो इस बात की संभावना 24% कम हो जाती है कि लोग उस पेज को छोड़कर चले जाएं.

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी में इन चीज़ों का ध्यान रखा जाता है

  • लोडिंग (पेज लोड होने में लगने वाला समय)
  • इंटरैक्टिविटी (पेज और उपयोगकर्ता के बीच का अनुभव)
  • विज़ुअल स्टैबिलिटी (लेआउट की स्थिरता)
GNI_Data_Presentation (1)

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी देने वाली मेट्रिक मापना शुरू करना

GNI_Data_Analytics

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी देने वाली मेट्रिक को बेहतर बनाने के लिए सबसे ज़रूरी है डेटा इकट्ठा करना.

  • PageSpeed Insights टूल की मदद से, मोबाइल और डेस्कटॉप डिवाइसों के लिए उपयोगकर्ता अनुभव को मापने और उसकी रिपोर्ट तैयार करने में मदद मिलती है. साथ ही, इससे पेजों को बेहतर बनाने के सुझाव मिलते हैं.

  • Search Console से यह जानने में मदद मिलती है कि पेजों पर, वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी देने वाली मेट्रिक के थ्रेशोल्ड को किस हद तक हासिल किया जा रहा है. यह जानकारी इस आधार पर मिलती है कि ऑडियंस, वेबसाइट का इस्तेमाल कैसे करती है

  • Web Vitals Chrome एक्सटेंशन किसी पेज के लिए, वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी देने वाली मेट्रिक को, रीयल टाइम में मापकर उसकी रिपोर्ट देता है. इसलिए, किसी भी डेवलपर के लिए इस एक्सटेंशन का इस्तेमाल करना काफ़ी अच्छा होता है

💡सबसे सही तरीका: इन टूल से मिले सुझावों को अपनी साइट के डेवलपर के साथ शेयर करें.

GNI_Data_Analytics

(लोडिंग) पेज लोड होने में लगने वाला समय

GNI_Audience_engagement_Blank

कॉन्टेंट लोड होने में लगने वाला समय कम होने से, लोगों की दिलचस्पी पेज में बनी रहती है.

  • अगर किसी साइट को लोड होने में तीन सेकंड से ज़्यादा लगता है, तो 50% लोग उसे छोड़ देते हैं
  • 47% लोग उम्मीद करते हैं कि वेब पेज दो सेकंड से कम में लोड हो जाएंगे
  • 52% लोग मानते हैं कि कॉन्टेंट लोड होने में लगने वाले समय से तय होता है वे किसी ब्रैंड के साथ बने रहेंगे या नहीं

लोडिंग (पेज लोड होने में लगने वाला समय) को, सबसे बड़े कॉन्टेंटफ़ुल पेंट (एलसीपी) के आधार पर मापा जाता है. इस मेट्रिक से पता चलता है कि पेज पर सबसे बड़ी इमेज या टेक्स्ट ब्लॉक को दिखने में कितना समय लगा.

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी देने वाली मेट्रिक के थ्रेशोल्ड को हासिल करने के लिए, आपकी साइट के 75% पेजों को 2.5 सेकंड या उससे कम समय में लोड होना चाहिए.

💡सबसे सही तरीके

  • लेज़ी लोडिंग चालू करें
  • बड़े GIF के बजाय, वीडियो का इस्तेमाल करें
  • इस्तेमाल न होने वाले कोड हटा दें
GNI_Audience_engagement_Blank

इंटरैक्टिविटी (पेज और उपयोगकर्ता के बीच का अनुभव)

screenshot-2023-02-23-at-54241-pm

लोडिंग मेट्रिक से पता चलता है कि आपकी साइट पर कॉन्टेंट कितनी तेज़ी से लोड हुआ, वहीं इंटरैक्टिविटी मेट्रिक से पता चलता है कि आपकी साइट पर कोई लेख चुनने या कोई दूसरी कार्रवाई करने पर, ऑडियंस को कितना तेज़ रिस्पॉन्स मिलता है.

इंटरैक्टिविटी मेट्रिक को फ़र्स्ट इनपुट डिले (एफ़आईडी) के आधार पर मापा जाता है. इससे यह पता चलता है कि किसी व्यक्ति के किसी लिंक या बटन पर क्लिक करने पर, आपकी साइट कितनी देर में उस पर कार्रवाई शुरू करती है.

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी देने वाली मेट्रिक के थ्रेशोल्ड को हासिल करने के लिए, आपकी साइट के 75% पेजों को 0.1 सेकंड या उससे कम समय में, किसी क्लिक पर कार्रवाई शुरू कर देनी चाहिए.

💡सबसे सही तरीके

  • लेज़ी लोडिंग चालू करें. इससे कोड को छोटे टास्क में बांटा जा सकता है
  • पेज के लिए ज़रूरी कोड को पहले लोड करें
  • डेटा फ़ेच करने वाले कोड कम कर दें
screenshot-2023-02-23-at-54241-pm

विज़ुअल स्टैबिलिटी (लेआउट की स्थिरता)

blue-data-screen

क्या आपके साथ कभी ऐसा हुआ है कि किसी लेख को पढ़ते समय, कोई वाक्य खत्म होने से पहले ही वह ऊपर या नीचे हो जाता है और आपको पता ही नहीं चलता कि आपने अब तक उस लेख को कितना पढ़ लिया है?

ज़्यादातर मामलों में यह सिर्फ़ परेशान करता है, लेकिन कभी-कभी इसका गंभीर नुकसान भी हो सकता है.

विज़ुअल स्टैबिलिटी मेट्रिक को कुल लेआउट शिफ़्ट (सीएलएस) के आधार पर मापा जाता है. इससे पता चलता है कि पेज लोड होते समय कॉन्टेंट की जगह कितनी बार बदली.

वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी देने वाली मेट्रिक के थ्रेशोल्ड को हासिल करने के लिए, आपकी साइट के 75% पेजों के लिए इसका स्कोर 0.1 या इससे कम होना चाहिए.

💡सबसे सही तरीके

  • इमेज और वीडियो के लिए आसपेक्ट रेशियो (लंबाई-चौड़ाई का अनुपात) या डाइमेंशन सेट करें
  • पिछले विज्ञापनों के आधार पर, अपने विज्ञापनों के लिए सबसे सही साइज़ चुनें

पेज पर सबसे ऊपर दिखने वाले विज्ञापन न चुनें

blue-data-screen
आप इस लेसन से किस हद तक संतुष्ट हैं?
आपके सुझाव, राय या शिकायत से, हमें अपने लेसन को और बेहतर बनाने में मदद मिलेगी!
लेसन पूरा करने के लिए, इस सवाल का जवाब दें.
वेबसाइट की परफ़ॉर्मेंस की अहम जानकारी में किन चीज़ों पर ध्यान दिया जाता है?
सबमिट करें
checklist (8)
क्विज़ पूरी हुई
बधाई हो! आपने अभी-अभी इसे पूरा किया Keep visitors engaged with Core Web Vitals
लेसन को दोबारा पढ़ें और फिर से कोशिश करें
in progress
Recommended for you
क्या आपको यह पेज छोड़ना है और अपनी प्रोग्रेस का डेटा मिटाना है?
इस पेज को छोड़ने पर, मौजूदा लेसन के लिए आपकी प्रोग्रेस का पूरा डेटा मिट जाएगा. क्या आपको वाकई इस पेज को छोड़कर अपनी प्रोग्रेस का डेटा मिटाना है?